बीजेपी के राज में, उत्तराखंड के शराब ठेके वाले मचा रहे हैं लूट, 150 रूपये की बियर 200 में बेचीं जा रही है…..

उत्तराखंड में बीजेपी की सरकार है और 31 मार्च 2019 को शराब के ठेके वालों का भी एक साल का अग्रीमेंट पूरा हो चुका है. अब अगर कोई इस अग्रीमेंट को जारी रखना चाहता है तो वो रख सकता है वरना दुबारा से ठेकों की नीलामी की जाएगी. इस बीच अगर आप आजकल शराब पिने की इच्छा रखतें है तो आपको अपनी इच्छा पर काबू करना होगा क्यूंकि आजकल उत्तराखंड में शराब के ठेके मालिकों ने लूट मचा रही है, इनके मूल्य कम से कम 25 से 30 प्रतिशत तक अधिक है. अगर कोई बियर की बोतल 150 रुपये की है तो उसको 200 रूपये में बेचा जा रहा है वहीँ अगर हम शराब के किसी भी क्वार्टर की बात करें तो इस पर भी 40-50 रूपये अधिक लिया जा रहा है, इतना ही नहीं अगर आप इनसे इस बारें में बात करोगे तो इनका तर्क है की शराब के दाम बढ़ गए , लेकिन भाई इनको कोन बतायेगा की दाम अगर बढे भी हैं तो वो मूल्य शराब की बोतल पर लिखा होगा. जबकि ये अभी पुराने मूल्य की शराब को ही ये बातकर बढाकर बेच रहे हैं की दाम बढ़ गए, दाम कितने बढे क्या दाम होगा इनको भी नहीं पता पर ये बेच रहे हैं. इस से ज्यादा अगर आप बात करोगे तो शराब की दूकान पर काम करने वाले आपके साथ मार पीट करने को तेयार हो जाते हैं, इनका एक तर्क यह भी होता है की अगर आपको जयादा मूल्य लग रहा है तो आप मत लीजिये कहीं और से लीजिये. अब इस तर्क का जबाब तो हमारी सरकार ही दे सकती है की क्या कोई शराब की दूकान का मालिक इस तरह किसी व्यक्ति को तर्क दे सकता है. चलो किसी आदमी को पीने का बहुत मन हो रहा है और उसने कोई बोतल खरीद भी दी और वो इसका बिल लेना चाहता है तो इन शराब के ठेकों को इसमें भी प्रॉब्लम है, शराब के ठेके वाले कभी भी तुम्हे अपनी मर्जी से बिल नहीं देते न ही वो हमारे कहने पर कोई बिल देते है. अगर बिल देंगे तो वो उस मूल्य का देंगे जो उस बोतल पर पड़ा होगा बाकी जो मूल्य इन्होने बढकर लिया है वो इनकी उपरी कमाई है. अब ये उत्तराखंड में सरेआम भ्रष्टाचार नहीं है तो क्या है.

अब हम अपनी सरकार को क्या बोले या तो हमारी सरकार ही इन लोगों से मिली हुई है वरना ये लोग ऐसा केसे कर पाते. और अगर हमारी सरकार को इस बात का पता भी नहीं है तो केसी सरकार है हमारी जो सिर्फ शराब के ठेकों को बढाने का काम कर रही है उनके दामों में हो रही लापरवाही पर उसका कोई ध्यान नहीं.

यह पोस्ट हमने अपने पर्सनल एक्सपीरियंस को देखकर लिकी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *