24 घंटे में 704 नए संक्रमित मरीज मिले हैं।

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 54 हजार पार कर गया है। बीते 24 घंटे में 704 नए संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं, 1239 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद डिस्चार्ज कर घर भेजा गया है। 

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार, शुक्रवार को 13677 सैंपल जांच में निगेटिव पाए गए। जबकि 704 लोग कोरोना की चपेट में आए हैं। पिछले पांच दिनों से प्रदेश में संक्रमितों की तुलना में ठीक होने वाले मरीजों की संख्या ज्यादा है। 
शुक्रवार को देहरादून जिले में सबसे अधिक 242 कोरोना संक्रमित मरीज मिले हैं। नैनीताल जिले में 73, रुद्रप्रयाग में 70, ऊधमसिंह नगर में 66, पौड़ी में 66, हरिद्वार में 50, उत्तरकाशी में 31, पिथौरागढ़ में 20, बागेश्वर में 20, चमोली में 19, टिहरी में 18, अल्मोड़ा में 17, चंपावत में 12 कोरोना मरीज मिले हैं। 

वहीं, प्रदेश में आज 14 कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। इसमें एम्स ऋषिकेश में दो, हिमालयन हॉस्पिटल में छह, महंत इंदिरेश हॉस्पिटल में चार, सिनर्जी हॉस्पिटल में एक और एचएनबी बेस हॉस्पिटल में एक संक्रमित ने दम तोड़ा है। 

आज 1239 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया है। अब तक 45774 ठीक हो चुके हैं। वर्तमान में 7289 सक्रिय मरीजों का उपचार चल रहा है। कुल संक्रमितों की संख्या 54063 हो गई है। 

चार मैदानी जिलों में 75 प्रतिशत संक्रमित, 92 प्रतिशत मौतें:
प्रदेश में कोरोना संक्रमण की रफ्तार धीमी पड़ी है। चार मैदानी जिलों में अब तक 75 प्रतिशत संक्रमित मामले और कोरोना से 92 प्रतिशत मौतें हुई है। देहरादून जिले में कोरोना संक्रमण से सबसे जयादा 2.35 प्रतिशत मृत्यु दर है। 

प्रदेश में संक्रमण दर राष्ट्रीय औसत से 0.22 प्रतिशत कम है। 15 मार्च से लेकर अब तक कोरोना मरीजों का आंकड़ा 54 हजार पहुंच गया है। इसमें सात सौ से अधिक मरीजों की मौत हो चुकी है। मैदानी जिले देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल और ऊधमसिंह नगर में प्रदेश के कुल संक्रमितों में 75 प्रतिशत मरीज मिले हैं।

जबकि 92 प्रतिशत मरीजों की मौत हुई है। वहीं, नौ पर्वतीय जिलों में 25 प्रतिशत संक्रमित मामले और आठ प्रतिशत मौतें हुई है। देहरादून जिला कोरोना संक्रमण व मृत्यु दर में सबसे आगे है।

प्रदेश का एक मात्र जिला चमोली में मृत्यु दर शून्य है। कोरोना आंकड़ों का विश्लेषण कर रहे सोशल डेवलपमेंट फॉर कम्युनिटी फाउंडेशन के संस्थापक अनूप नौटियाल का कहना है कि राष्ट्रीय स्तर पर संक्रमण की दर 1.54 प्रतिशत है, जबकि उत्तराखंड में 1.32 प्रतिशत है। जो राष्ट्रीय औसत से 0.22 प्रतिशत है।

देहरादून जिले में नौ इलाके पाबंदी से मुक्त:
14 दिन के एक्टिव सर्विलांस के बाद नौ इलाकों को पाबंद से मुक्त कर दिया गया है। जिलाधिकारी डॉ. आशीष कुमार श्रीवास्तव ने बताया कि 14 दिन में कोरोना संक्रमित एक भी केस न मिलने पर नगर निगम देहरादून के पार्क हर्षदेव एन्क्लेव धर्मपुर डांडा अंबीवाला गुरुद्वारा रोड, रेस्ट कैंप रोड निकट सुंदर रेजीडेंसी, मधुर विहार लेन-2 सहस्त्रधारा रोड, देव ऋषि एन्क्लेव गली नं.-10 थाना पटेलनगर को कंटेनमेंट जोन से मुक्त कर दिया गया है।

इसके अलावा विवेकानंद बाल वाटिका स्कूल हरिपुर नवादा, शांति विहार अजबपुर कलां फेज-1, त्रिमूर्ति एन्कलेव दून यूनिवर्सिटी रोड, बीएसए ऑफिस माता मंदिर रोड अजबपुर कलां एवं सेवला कलां कृष्णा विहार को भी कंटेनमेंट जोन से मुक्त कर दिया है।

बताया कि शुक्रवार को 1655 सैंपल जांच के लिए भेजे गए। वहीं, 1541 व्यक्तियों का फोन के जरिये सर्विलांस किया गया। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने 24839 लोगों का सर्विलांस किया। बताया कि कोविड-19 संक्रमण को देखते हुए अस्पतालों में 166 आईसीयू बेड खाली हैं। इसके अलावा सार्वजनिक स्थानों पर मास्क न पहनने पर 63 लोगों का चालान किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *