दुर्गा के पंचम स्वरूप स्कंदमाता का आज पूजन किया जा रहा है।

दुर्गा के पंचम स्वरूप स्कंदमाता का आज पूजन किया जा रहा है। आचार्य विजेंद्र प्रसाद ममगाईं के अनुसार, इनका पूजन करने से भगवान कार्तिकेय के पूजन का भी लाभ प्राप्त होता है। वहीं शारदीय नवरात्र के चौथे दिन मंगलवार को भक्तों ने मां दुर्गा के कुष्मांडा स्वरूप की पूजा कर रोग, शोक और विनाश से मुक्त कर आयु, यश, बल और बुद्धि प्रदान करने की कामना की। मंदिरों में विशेष आरती के साथ भक्तों ने माता का आशीर्वाद लिया, वहीं घर पर भी पूजा की।

दून में मां डाट काली, माता वैष्णो देवी गुफा योग मंदिर टपकेश्वर, श्याम सुंदर मंदिर पटेलनगर, मां स्वर्गापुरी मंदिर निरंजनपुर, पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर, दुर्गा मंदिर सर्वे चौक के अलावा शक्ति विहार, नेहरूग्राम आदि जगहों पर स्थित मंदिरों में सुबह आरती की गई। वहीं मंदिरों में पहुंचे भक्त भी आरती में शामिल हुए।

घरों में पूजा स्थल पर सुबह दीप जलाकर माता की प्रतिमा के सम्मुख पूजा की। देर शाम को श्याम सुंदर मंदिर में आयोजित भजन संध्या में भक्तों ने माता का गुणगान किया। पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में नवजोत बमरा जागरण पार्टी ने मधुर भजनों से वातावरण को भक्तिमय किया। इस मौके पर दिगंबर दिनेश पुरी, दिगंबर भागवत पुरी, विनोद अग्रवाल, संजय अग्रवाल, कपिल गोयल, सुमित गुप्ता, नवीन गुप्ता, सोहन लाल गर्ग, अनुराग अग्रवाल, ललित आहूजा, नरेंद्र ठाकुर, विक्की गोयल, अनुराग अग्रवाल मौजूद रहे।

दुर्गा सप्तशती, मृत्युंजय, विष्णु सहस्ननाम नवग्रह का किया पाठ:
नवरात्र के चाथे दिन अंसारी मार्ग स्थित मां कालिका मंदिर में पंडितों ने दैनिक यज्ञ कर कोरोना से मुक्त के लिए आहुति दी। आचार्य चंद्रप्रकाश ममगाईं ने विश्व शांति के लिए दुर्गा सप्तशती पाठ, मृत्युंजय, विष्णु सहस्ननाम नवग्रह पाठ किया। इस मौके पर ट्रस्टी गगन सेठी, एलडी भाटिया, साहिब राम डोरा, मंदिर प्रधान रमेश मैनी, मंत्री अशोक लांभा, बिशंबर थपलियाल, राम भाटिया, अनिरुद्ध, जय किशन कक्कड़ आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *