मंगलवार को केवल 39 संक्रमित मरीज पाए गए।

उत्तराखंड में मंगलवार को सिर्फ 39 संक्रमित मरीज मिले हैं। वहीं एक मरीज की मौत हुई है। संक्रमितों की तुलना में 102 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। कुल संक्रमितों की संख्या 95741 हो गई है। 

स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, सोमवार को 7105 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। प्रदेश में 1636 कोरोना मरीजों की मौत हो चुकी है। कुल  91323 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। वर्तमान में 1455 सक्रिय मरीजों का उपचार चल रहा है। 

हरिद्वार में 16 कोरोना वारियर्स सम्मानित:
आर्य वानप्रस्थ आश्रम ज्वालापुर की ओर से कोरोनाकाल की विषय परिस्थिति में कार्य करने वाले कोरोना वारियर्स को सम्मानित किया। 16 वायिरर्स को नगद राशि के अलावा प्रतीक चिन्ह दिया गया।

संस्था के संपर्क अधिकारी विजय कुमार सूदन ने बताया कि अपर जिलाधिकारी केके मिश्र की ओर से वारियर्स को सम्मानित किया गया। आश्रम के प्रधान दिनेश कुमार पांडे और मंत्री सविता वर्मा ने बताया कि 16 वारियर्स को 40300 रुपये की धनराशि देकर सम्मानित किया गया।

इस दौरान भजन गायक दिनेश पथिक, आश्रम के उप प्रधान मास्टर ओम प्रकाश समेत कई लोग मौजूद रहे।

आस्था के बीच कोरोना न बने दीवार उचित कदम उठाए सरकार : कलेर  
आम आदमी पार्टी के अध्यक्ष एसएस कलेर ने कहा कि हरिद्वार में होनेे वाले कुंभ मेले में धर्म और आस्था के बीच कोरोना दीवार न बने। इसके लिए सरकार को उचित कदम उठाना चाहिए। जिससे देश-दुनिया से आने वाले श्रद्धालु गंगा में पवित्र डुबकी लगा सके।

आप अध्यक्ष ने जारी बयान में कहा कि हरिद्वार में 27 फरवरी से शुरू होने जा रहे कुंभ के लिए केंद्र ने एसओपी जारी कर दी है। जिसमें केंद्र ने स्पष्ट कर दिया है कि कुंभ में उन्हीं लोगों को प्रवेश करने दिया जाएगा, जिनके पास 72 घंटों के अंतराल की आईआरटीपीसीआर रिपोर्ट होगी। इसके साथ ही यहां आने वाले लोगों को अपने शहर के अस्पतालों या मेडिकल कॉलेजों से मेडिकल सर्टिफिकेट भी लाना होगा।

उन्होंने कहा कुंभ आस्था और विश्वास का ऐसा महापर्व है, जिसे लेकर सरकार को यहां आने वाले हर एक श्रद्धालु की आस्था का खयाल रखना नैतिक जिम्मेदारी है। ऐसे में कोरोना वायरस से बचाव के उपाय भी सरकार को करने होंगे।  देश भर से से कुंभ में स्नान करने वाले लोगों को बैरंग न लौटना पड़े। इसके लिए ब्लू प्रिंट भी तैयार करना होगा। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *