तीन दिन में 1300 संक्रमित।

महाकुंभ में मेष संक्रांति के शाही स्नान के साथ संन्यासियों का कुंभ भी पूरा हो गया। वहीं, एक संत ने सेक्टर मजिस्ट्रेट को मेला प्रशासन की ओर से दी गई सुविधाएं वापस लेने का आग्रह किया है। बृहस्पतिवार से कई संन्यासी छावनियां छोड़ना शुरू कर देंगे। वहीं, कोविड संक्रमण के बढ़ते प्रसार के बीच कुंभ समापन की अटकलें भी तेज होने लगी हैं।

तीसरे शाही स्नान पर 14 लाख ने लगाई डुबकी, तीन दिन में 1300 संक्रमित
कुंभ मेले का मुख्य शाही स्नान सकुशल और सुव्यवस्थित तरीके से संपन्न हो गया। स्नान पर्व पर 13 लाख 50 हजार से अधिक श्रद्धालुओं ने गंगा में पवित्र डुबकी लगाई। कुंभ मेले में बीते तीन दिनों में 1300 लोग कोरोना की चपेट में आए जिनमें से 18 संत-महात्माओं को भी बीमारी ने नहीं बख्शा। बीते मंगलवार को 9 महात्मा संक्रमित निकले और उससे पहले भी इतने ही संत कोरोना संक्रमण का शिकार हुए। 

हरिद्वार में बीते तीन स्नानों पर 49,31,343 संत और श्रद्धालुओं ने डुबकी लगाई है। इनमें 1854 श्रद्धालु, संत और मेले से जुड़े कर्मचारी संक्रमित हो चुके हैं। कोविड के साए में कुंभ आयोजन के साथ स्नान करने वाले श्रद्धालुओं की संख्या पर भी सवाल उठने पर मेला पुलिस ने बुधवार को आंकड़े जारी किए हैं। पुलिस के मुताबिक मकर संक्रांति से लेकर मेष संक्रांति के शाही स्नान तक एक करोड़ से अधिक लोगों ने गंगा में डुबकी लगाई।

एक अप्रैल से कुंभ अधिसचूना जारी है और अवधि 30 अप्रैल तक है। इस बीच कोरोना ने कहर बरपाना शुरू कर दिया है। भीड़ बढ़ने के साथ संक्रमण तेजी से फैल रहा है। मेष संक्रांति का शाही स्नान कुंभ का सबसे बड़ा स्नान सकुशल संपन्न हो गया है। अब रामनवमी और 27 अप्रैल को चैत्र पूर्णिमा का शाही स्नान होना है। 27 को चैत्र पूर्णिमा स्नान में सिर्फ बैरागी स्नान करते हैं। 
श्रद्धालुओं के स्नान का आंकड़ा
– मकर संक्रांति पर्व   7,11,970
– मौनी अमावस्या  3,76,725
– बसंत पंचमी  2,38,531
– माघ पूर्णिमा   6,37,000
– महाशिवरात्रि   32,37,000
–  सोमवती अमावस्या   31,23,000
– नव संवत्सर  4,56,712 
– मेष संक्रांति   13,51,631 
कुल एक करोड़ एक लाख 32 हजार 569 

कुंभ अवधि में बॉर्डर पर कोविड-19 की जांच
– कुल टेस्ट:   154467
– कुल पॉजिटिव पाए गए:  222
– टेस्ट न करवाने पर वापस गए श्रद्धालु:  56615
– बॉर्डर से वापस लौटाए गए वाहन:  9786
– बिना मास्क के चालान:  2641
– बिना सोशल डिस्टेसिंग के चालान: 2342

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *