नोकरी छोड़ने का आ गया है वक्त, इन बातों से लगेगा पता

बदलाव का वक्त आ गया

हाल के दिनों में ऑफिस आने के बाद भी अपने काम से जी चुराना शुरू कर दिया है…क्या आपको हर दिन यह महसूस होता है कि आपका काम आपके लिए बोझ बनता जा रहा है…अगर आप भी इस तरह की बातों से हर दिन गुजर रहे हैं तो वक्त आ गया है कि आप अपने CV पर दोबारा काम करें और दूसरी नौकरी ढूंढना शुरू कर दें। आगे की तस्वीरों में जानें, उन संकेतों के बारे में जो बताते हैं कि आपके लिए नौकरी छोड़ने का वक्त आ गया है…

काम के दोरान बोरियत मह्शूश करना 

समय-समय पर ज्यादातर लोग एक जैसा काम हर दिन करके बोर हो जाते हैं लेकिन अगर लंबे समय तक आपको अपने काम में बोरियत महसूस हो और काम करने का दिल न करे तो सावधान हो जाइए। ये इस बात का संकेत है कि अब आपको इस काम में दिलचस्पी नहीं रही है।

लक्ष्यों का टकराव होना 

क्या कंपनी के उद्देश्य और आपके पर्सनल उद्देश्य में अंतर है। अगर मौजूदा कंपनी में काम करते हुए आपका पर्सनल ग्रोथ नहीं हो रहा, आपने अपने लिए जो टार्गेट सेट कर रखा है क्या आप उसे हासिल करने में असमर्थ हैं? अगर इन सभी सवालों का जवाब हां में है तो इसका मतलब है कि आपको अपनी नौकरी बदल लेनी चाहिए।

बोश से आपकी नहीं बनती 

अक्सर देखने में आता है कि ज्यादातर लोग नौकरी नहीं छोड़ते, बॉस को छोड़ते हैं। अगर आपके प्रति आपके बॉस का ऐटिट्यूड नेगेटिव है तो इससे न सिर्फ ऑफिस में आपका काम प्रभावित होता है बल्कि जिंदगी के दूसरे पहलूओं पर भी असर पड़ता है। कई बार इस वजह से आपका आत्मविश्वास भी कमजोर पड़ जाता है। ऐसे में बॉस की नेगेटिविटी झेलने की बजाए तुरंत नौकरी बदल लें।

हर वक्त तनाव में रहना

कभी-कभार काम का प्रेशर ज्यादा होने की वजह से हर कोई थक जाता है या तनाव में आ जाता है लेकिन अगर आप अपने काम की वजह से हर दिन फिजिकली, इमोशनली और मेंटली कमजोर और शक्तिहीन महसूस कर रहे हैं तो समय आ गया है बदलाव का। नौकरी ने बदलने पर हो सकता है आपकी सेहत पर भी इसका बुरा असर पड़े।

ऑफिस में बैठकर वक्त काटना 

हो सकता है कभी-कभी आपके पास करने के लिए ज्यादा काम न हो लेकिन ऐसा महीने में 1-2 बार ही होगा। लेकिन अगर ऐसा हर दिन होने लगे यानी आपके पास काम करने के लिए कुछ न हो और समय काटने के लिए फेसबुक और ट्विटर का इस्तेमाल करना पड़े तो अपना टैलंट वेस्ट करने से बेहतर है कि आप नौकरी बदल लें।

ऑफिस में नेगटिव माहोल 

ऑफिस का नकारात्मक माहौल विष की तरह काम करता है। अगर आपके सहयोगी कर्मचारी हर वक्त शिकायत करते रहते हैं, आपका बॉस भी आपसे हर वक्त नाराज रहता है तो इस तरह के माहौल में आपकी अपनी आत्मसंतुष्टि बेहद कम हो जाती है।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *