इंदिरा गांधी की मौत की भविष्य वाणी करने वाले नास्त्रे दमस ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा था

26 मई 2016 को नरेंद्र मोदी ने देश के प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली थी। सत्‍ता में आने के ढाई वर्ष के अंदर पीएम मोदी ने अपना कद और लोकप्रियता इतनी बढ़ा ली है कि उनके नेतृत्‍व में लड़े गए यूपी और उत्‍तराखंड चुनाव में बीजेपीको एतिहासिक जीत हासिल हुई। क्‍या आप जानते हैं कि आज से करीब 450 साल पहले इस बात की भविष्‍यवाणी हो गई थी कि देश को जो शासक मिलेगा वह वर्ष 2026 तक भारत पर राज करेगा।

क्‍या कहा था नास्‍त्रेदमस ने

यह भविष्‍यवाणी किसी और ने नहीं बल्कि मशहूर फ्रेंच भविष्‍यवक्‍ता नास्‍त्रेदमस ने की थी। वही नास्‍त्रेदमस जिन्‍होंने इंदिरा गांधी से लेकर हिटलर तक के बारे में भविष्‍यवाणी की और उनकी भविष्‍यवाणियां सच साबित हुईं। मशहूर फ्रेंच कॉलमिनस्‍ट फ्रैंकोइस गॉटियर के मुताबिक, नास्त्रेदमस ने भारत में पीएम नरेंद्र मोदी के बढ़ते कद और अजेय रहने की भविष्यवाणी करीब 450 वर्ष पहले ही कर दी थी। फ्रैंकोइस अपने एक ब्‍लॉग में इसका जिक्र किया था। फ्रैंकोइस ने लिखा था कि नास्त्रेदमस ने भविष्‍यवाणी की थी कि वर्ष 2014 से 2026 तक भारत का प्रतिनिधित्‍व एक ऐसा व्‍यक्ति करेगा जिससे शुरुआत में लोग बहुत ही नफरत करेंगे लेकिन बाद में जनता और बाकी सभी लोग उसे उतना प्‍यार देंगे कि वह अगले 22 वर्ष तक भारत का प्रधानमंत्री रहेगा।

बदलेगी देश की दिशा और दशा

नास्‍त्रेदमस ने इस बात के बारे में 450 वर्ष पहले यह भविष्‍यवाणी सन् 1555 में अपने एक अपनी एक किताब ‘द प्रोफेसीज’ में कर दी थी। फ्रेंच भाषा में लिखे अपने इस ग्रंथ में नास्‍त्रेदमस ने साफ लिखा है कि यह व्‍यक्ति भारत की दिशा और दशा बदलकर रख देगा। फ्रेंकोइस ने अपने एक ब्लॉग में लिखा कि एक मशहूर फ्रेंच स्कॉलर बैम्पेरल डे ला रोशफोकॉल्ट को एक पुराने संदूक में कुछ पुराने दस्तावेज मिले थे, जिसे उन्होंने सन् 1876 में बोर्दो के एक दुकानदार को बेच दिया था। बैम्परेल के मुताबिक, ये दस्तावेज लैटिन भाषा में लिखे गए थे और ये नास्त्रेदमस के थे। इन दस्तावेजों के दो पन्नों में लैटिन भाषा में कविताएं लिखी हुई हैं। गौरतलब है कि नास्त्रेदमस ने अपनी किताब में ‘द प्रोफेसीज’ में फ्रेंच रिवॉल्यूशन, परमाणु हमलों, एडोल्फ हिटलर और 9/11 हमले की भविष्यवाणी की थी, जो सच साबित हुईं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *