विवि प्रशासन ने पीएचडी कराने के लिए  तैयारियां शुरू कर दी हैं।

श्रीदेव सुमन विवि से पीएचडी करने की उम्मीद बांधे युवाओं के लिए खुशखबरी है। विवि प्रशासन ने पीएचडी कराने के लिए  तैयारियां शुरू कर दी हैं। विवि ने 15 विषयों में पीएचडी के लिए 70 सीटें निर्धारित कर आरडीसी (रिसर्च डिग्री कमेटी) का गठन भी कर दिया है। विवि का कहना है कि जल्द ही प्रवेश परीक्षा की तिथि निर्धारित की जाएगी। 

श्रीदेव सुमन विवि पहली बार पीएचडी कराने जा रहा है। पीएचडी में दाखिले के लिए विवि प्रशासन ने पहले गत जुलाई में प्रवेश परीक्षा आयोजित करने की तैयारी शुरू की थी, लेकिन कोविड-19 और लॉकडाउन के कारण विवि की प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पाई।

शोध कार्यों को बढ़ावा देने के लिए विवि ने सेंट्रल हिमालयन इनवायरलमेंट एसोसिएशन से 2019  में एमओयू भी कर लिया था, लेकिन विवि से संबद्ध महाविद्यालयों से सीटों की संख्या और विषयों की रिपोर्ट समय पर विवि को नहीं मिल सकी, जिससे विवि सीटों का सही निर्धारण नहीं कर पाया था।

अब विवि ने पीएचडी के पाठ्यक्रम और अन्य तैयारियों को अंतिम रूप देने के लिए आरडीसी का गठन कर दिया है। कमेटी की पहली बैठक दो दिन पहले ही संपन्न हुई है। जल्द ही सभी विषयों की आरडीसी बैठक होने के बाद प्रवेश परीक्षा की तिथि निर्धारित की जाएगी। बताया गया कि विवि शोध कार्य में राज्य की आवश्यकताओं प्रोत्साहित करेगा।

इन विषयों में होगी पीएचडी:
हिंदी, संस्कृत, अंग्रेजी, अर्थशास्त्र, राजनीतिशास्त्र, शिक्षाशास्त्र, सैन्य विज्ञान, कॉमर्स, रसायन विज्ञान, भौतिक विज्ञान, वनस्पति विज्ञान,जंतु विज्ञान, भूगर्भ विज्ञान, गणित।

पीएचडी के लिए विभिन्न विषयों में आरडीसी का गठन कर दिया गया है। जल्द ही आरडीसी की सभी बैठकें होने के बाद प्रवेश परीक्षा की तिथि निर्धारित की जाएगी। 
-डा. पीपी ध्यानी, कुलपति श्रीदेव सुमन विवि।

एमटेक की सात, पीएचडी की 11 को होगी स्पॉट काउंसिलिंग:
गोविंद बल्लभ पंत कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय की एमटेक और पीएचडी की स्पॉट काउंसिलिंग की तिथि घोषित कर दी गई है। प्रवेश परीक्षा संयोजक डॉ. विनोद कुमार ने बताया कि एमटेक की विभिन्न श्रेणियों की 65 सीटों के लिए सात जनवरी को स्पॉट काउंसिलिंग की जाएगी। इसी तरह पीएचडी के लिए 11 जनवरी को स्पॉट काउंसिलिंग की जाएगी।

पीएचडी के लिए जिस वर्ग में अन्य वर्गों की सीटें यदि रिक्त रहती हैं तो उनके राज्य के अभ्यर्थियों से उन्हें भरा जाएगा। स्पॉट काउंसिलिंग में भाग लेने वाले अभ्यर्थी पांच सौ रुपये काउंसिलिंग फीस प्रवेश अनुभाग में ही जमा करा सकते हैं। इसके बाद सीट एलाटमेंट का कार्य किया जाएगा। 

स्पॉट काउंसिलिंग में प्रवेश पाने वाले अभ्यर्थी अपने प्रमाण पत्रों की जांच भी उसी दिन कराएंगे। इसके बाद उन्हें अपने प्रोग्राम की निर्धारित फीस जमा करने के बाद पंजीकरण कराना होगा। उन्होंने बताया कि अभ्यर्थियों के स्पॉट काउंसिलिंग की पूरी सूचना विश्वविद्यालय की वेबसाइट पर उपलब्ध है। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *