इन आदतों के कारण आपको हमेशा करना पड़ सकता है पैसों की कमी का सामना

वास्तुदोष की वजह से घर में हमेशा बीमारियां, तनाव और लक्ष्मी की कमी का कारण हो सकती हैं। इनके कारण आप परेशान रहने लगते हैं और अपने काम में फोकस नहीं कर पाते। जिससे परिवार के सदस्यों को धन की हानि होती है और घर में नकारात्मक ऊर्जा का हमेशा वास हो जाता है। इसके अलावा शास्त्रों में भी कुछ आदतों के बारे में बताया गया है जिनसे लक्ष्मी की कृपा नहीं मिलती है। अपनी इस तरह की कुछ आदतों में सुधार करके हम अपने घर को इस परेशानी से बचा सकते हैं। नीचे पढ़े ;

 

  • अपने से बड़ों का अपमान करना:जो लोग अपने से बड़ों का अपमान करते हैं और उऩके साथ अच्छा व्यवहार नहीं करते हैं उन लोगों को मां लक्ष्मी की कृपा नहीं मिलती है। शास्त्रों में कहा गया है कि अपने से बड़ों का सम्मान करने वालों की जिंदगी में हमेशा उन्नति और सफलता मिलती है। लेकिन जो लोग बड़ों के साथ अच्छा व्यवहार नहीं करते हैं ऐसे लोग हमेशा जिंदगी में परेशानियों से घिरे रहते हैं।

 

 

  • किचन को साफ़ सुधरा न रखना :जिन लोगों का किचन साफ़ नहीं रहता है उन लोगों की कुंडली में ग्रह दोष होते हैं और कहा जाता है कि किचन को साफ-सुथरा रखना चाहिए और रात को झूठे बर्तन नहीं छोड़ने चाहिए. इससे घर में बरकत आती है।

 

 

 

 

 

 

 

 

  • अव्यवस्थित बिस्तर और बेड में गंदी चादर:अगर घर का बेड हमेशा अव्यवस्थित रहता है और चादर गंदी रहती है तो कहा जाता है कि घर में वास्तु दोष आ जाता है। इसके कारण घर में तनाव तो रहता ही है साथ ही घर में बरकत भी नहीं होती।

 

 

 

 

 

 

 

  • जूतों को इधर उधर फेंकना :जूतों को घर में इधर-उधर नहीं फेंकना चाहिए और इसके अलावा बाहर के जूतों को घर में नहीं पहनना चाहिए। घर में पहनने के लिए अलग से जूते होने चाहिए। कहा जाता है कि बाहर के जूते घर में पहनने से घर में वास्तु दोष आता है। इसके अलावा घर में बुरे माहोल का वास होता है और घर में पैसों की कमी होने लगती है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

  • जूठे बर्तनों को सही से एक जगह पर न रखना :अगर आप खाने के बाद जूठे बर्तन जगह पर नहीं रखते हैं तो कुंडली में चंद्र और शनि के दोष आने लगेंगे। इसलिए कहा जाता है कि जूठे बर्तनों को अपनी जगह पर ही रखना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *