राज्य सरकार ने अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति के छात्रों के भोजन भत्ते में वृद्धि की।

समाज कल्याण विभाग के तहत विभिन्न संस्थाओं में अध्ययनरत अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति के छात्रों का भोजन भत्ता तीन हजार रुपये प्रतिमाह से बढ़ाकर साढ़े चार हजार रुपये कर दिया गया है। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने विभाग के इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है।

भोजन भत्ते में बढ़ोत्तरी का लाभ जनजातीय कल्याण विभाग के तहत संचालित संस्थानों में अध्ययनरत आवासीय छात्रों को भी मिलेगा। अभी तक आश्रम पद्धति विद्यालयों में ही 4500 रुपये प्रति माह भोजन भत्ता दिया जा रहा था।

अब विभागीय स्तर पर संचालित सभी औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, अनुसूचित जाति व अनुसूचित जनजाति छात्रावासों, एकलव्य आवासीय विद्यालयों, राजकीय वृद्ध अशक्त गृह, राजकीय भिक्षुक गृह में भी छात्रों व पात्रों को बढ़ी हुईं दरों से भोजन भत्ता मिलेगा।

होमगार्ड जवानों को भी एरियर की सौगात
राज्य सचिवालय में तैनात 309 होमागर्ड के जवानों को सरकार 25 अप्रैल 2017 से दो जुलाई 2018 तक के अवशेष ड्यूटी भत्ते के एरियर की पहली किस्त मिलेगी। मुख्यमंत्री ने गृह विभाग के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। इसके तहत एरियर की पहली किस्त के रूप में एक करोड़ 24 लाख 38 हजार 600 रुपये की धनराशि मंजूर की गई है।

यूएसनगर में मंदिरों के सौंदर्यीकरण के लिए 49.72 लाख मंजूर
मुख्यमंत्री ने ऊधमसिंहनगर के लालकोठी शारदा घाट मंदिर व भारामल मंदिर के सौंदर्यीकरण के लिए 49.72 लाख की धनराशि मंजूर की है।

चार साल में गैरसैंण पर ऐतिहासिक फैसले लिए गए : भाजपा
चार साल में भाजपा सरकार से श्वेत पत्र जारी करने की मांग को लेकर प्रदेश भाजपा ने कहा कि गैरसैंण पर ऐतिहासिक फैसले हुए। पार्टी ने कहा कि विधानसभा चुनाव में पार्टी ने प्रदेश की जनता से वादा किया था कि गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया जाएगा। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने ग्रीष्मकालीन राजधानी की घोषणा कर न सिर्फ पार्टी का चुनावी वादा पूरा किया बल्कि उत्तराखंड की जनभावनाओं का सम्मान किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *