इस नए कंडोम ने तो सेक्स को खेल बना दिया है…..

आज अगर एडिसन ओए आइंस्टीन जिन्दा होते तो इस खबर को पड़कर जरूर सुसाइड कर लेते. और वो लोग यही सोचते की जब टेक्नोलॉजी इतनी ऊँचाई तक जा सकती है तो फिर कोई प्रयोग करने का क्या फ़ायदा उससे अच्छा तो किशान बन जाते…

आज के युग में लोग तकनिकी के पीछे भाग रहे हैं और इसकी जरूरत भी है लेकिन कितनी जरूरत है ये भी सोचने वाली बात है, अब जैसे स्मार्ट फ़ोन तो लोगों के लिए जरूरी हो गया पर स्मार्ट कंडोम और स्मार्ट ब्रा को भी क्या जरूरी में गिना जाना चाहिए?

एक ब्रिटिश कंपनी ने स्मार्ट कंडोम बना दिया और इस नए स्मार्ट कंडोम ने तो सेक्स को खेल बना दिया है. पर सोचने वाली बात तो ये है की इसकी जरूरत क्यूँ पड़ी? इस कंपनी के अनुसार यह कंडोम सेक्स की परफॉरमेंस नापेगा, और साथ में सेक्स से जुडी हुई हर बात का डाटा उपलब्द करवाएगा, ये यह भी बताएगा की सेक्स के दोरान कितनी केलोरी बर्न हुई. यह बात सुनने में तो अजीब लगती है लेकिन अगर सोचा जाय तो लगती काफी दिलचस्प है.

यह एक ट्रैकर की तरह काम करेगा. बस इसको कलाई की जगह किसी और जगह पहनना होगा, इसे एक रिंग की तरह बनाया गया है जिसको कंडोम के ऊपर पहनना होगा.

इस कंडोम का नाम है i.con जिसको ब्रिटिश कंपनी ने हाल ही में बनाया है. इस रिंग की कीमत लगभग 5000 रुपये है. यह डिवाइस यह बताएगा की आपकी सेक्सुअल लाइफ कैसी है और उसकी हर चीज़ का डाटा देगा.

क्या क्या  डाटा यह उपलब्द करा सकता है नीचें दिया हुआ है-

 

– जब आप सेक्स कर रहे होंगे तो उस वक्त आपने कितनी ताकत लगाई है या लग रही  है.

– सेक्स के दोरान कितनी केलोरी बर्न हुई है.

– आपने पिछले कुछ टाइम या दिनों में कितनी बार सेक्स किया है.

– किस- किस अलग पोजीशन में आपने सेक्स किया है.

– और सबसे इम्पोर्टेन्ट यह बताएगा की और लोगों के मुकाबले आपका परफोर्मेंस केसा है. यानी यह डिवाइस आपको सारे सेक्स की रिपोर्ट देगा. और इस से आप यह भी जान सकते हैं की आप अपनी सिटी में कितना ऊपर या नीचे है यह इसमें पड़े डेटा बेस से पता लग सकता है. अब आप ही बताइए यह सेक्स हुआ या कोई खेल, या फिर कोई आईपीएल या t20.

इस डिवाइस की बैटरी 6 से 8 घंटे तक की है और कहा जा रहा है की इतनी देर तक आप अपना लाइव डेटा देख सकते है यह डिवाइस आपको आपके स्मार्ट फ़ोन में डेटा भेजता रहेगा.जिस से आप अपनी परफॉरमेंस रेटिंग देख सकते है.

अब हम आपसे कुछ सवाल पूछते हैं की आखिर क्या ऐसे अविष्कारों की जरूरत है और क्यूँ? ऐसी बहुत सी डिवाइस आती हैं जिनको देख के लगता है की क्या कर दिया सोचना एक अलग बात है लेकिन इतना और इस तरह भी क्या सोचना.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *