क्या हैं टमाटर के फायदे और नुकशान

टमाटर पर हाल मैं किये गए प्रयोगों से ज्ञात हुआ कि टमाटर सिर्फ सब्जी न होकर पोष्टिक व गुणकारी फल हैं, गर्भावस्था के समय  स्त्रियों के शरीर में लौह तत्व एवं अन्य तत्वों की कमी को पूर्ण करने वाले टमाटर को स्वादिष्ट व गुणकारी फल माना जाता है। टमाटर मैं पूर्ण मात्रा में कैल्शियम, फास्फोरस व विटामिन सी पाये जाते हैं, विटामिन, पोटाश, मैगजीन, लौह और कैल्शियम से भरपूर टमाटर को चटनी, सॉस, कैचप, जैम और अन्य व्यंजनों के रूप में सेवन किया जा सकता है। इसके सिवाय जाड़ो के मौसम में टमाटर का सूप पीते  है,  यह सेहत के लिए बहुत लाभदायक होता है।

टमाटर के फायदे :

  1. अनेमिया रोगी को रोज सो ग्राम टमाटर का रस पीने से बहुत लाभ होता है।
  2. रोजाना टमाटर का रस पिने से जोंडिस रोग मैं बहुत लाभदायक होता हैं

3  कम वजन से जो लोग परेशान होते हैं यदि वो खाने के साथ पक्के टमाटर खाए तो उनका वजन बढ़ता हैं।

  1. पेट मैं किसी के कीड़े हो तो टमाटर के टुकडो पर या रस मैं काली मिर्च का चूर्ण और सेंधा नमक डालकर खाएं। पेट के कीड़े मर जाते हैं या कम हो जाते है
  2. टमाटर के रस मैं थोड़ी सी शर्करा / चीनी मिलाकर पीने से पित्त की व्याधिया / रोग समाप्त हो जाते हैं ।
  3. टमाटर खाने से न केवल मुह के छाले ठीक हो जाते हैं , और साथ ही कब्ज की समस्या भी दूर हो जाती हैं ।
  4. छोटे बच्चो मैं अधिक्तर आँखों की रोशनी कम होने पर उन्हें टमाटर खिलाना चाहिए । टमाटर मैं विटामिन ए होता है जो आँखों की रोशनी बढ़ाने मैं मदद करता हैं
  5. जिनके दातों मैं स्कर्वी रोग की समस्या होती हैं तो उन लोगों को रोजाना दो सो ग्राम टमाटर का रस सुबह श्याम पीने से बहुत लाभ होता ।
  6. जिन लोगों को खाने के प्रति अरूचि होने या भूख न लगने की स्थिति में टमाटर के दो सौ ग्राम रस में अदरक का रस और नींबू का रस मिलाकर पीने से भूख अधिक लगती है।
  7. अर्श रोग मैं खून निकलने पर रोजाना सौ ग्राम टमाटर खाने या रस पीने से खून निकलने की समस्या दूर होती है, टमाटर कब्ज की समस्या को दूर करता हैं
  8. पके हुए टमाटरों का रस पीने से बच्चों के नाक की नकसीर की समस्या दूर होती हैं ।
  9. पके हुए टमाटरो का रस, सुबह-शाम पीने से गर्मियों में निकलने वाले फोड़े- फुंसी व त्वचा के अन्य विकारों से सुरक्षा होती है।

13.गर्मियों मैं जब पानी की अधिक प्यास की समस्या होने पर दो सौ ग्राम टमाटर के रस में दो-तीन लौंग का चूर्ण मिलकर पीने से बहुत लाभ होता हैं ।

  1. टमाटर के 100ग्राम रस में 50 ग्राम नारियल का तेल मिलाकर, शरीर पर मलकर कुछ समय बाद स्नान करने से खाज-खुजली से राहत मिलेगी।
  2. अदरक, पुदीना,धनिया और सेंधा नमक को टमाटर के साथ पीसकर चटनी बनाकर भोजन के साथ सेवन करने से भूख बढ़ती है।

16.200 ग्राम टमाटर का रस सुबह-शाम पीने से रतौंधी की समस्या कम  होती है।

  1. टमाटर को काटकर उन पर सोंठ का चूर्ण और सेधा नमक डालकर खाने से पाचन क्रिया तीव्र होती है।
  2. 18. मधुमेह रोगी को रोजाना टमाटर का सेवन करना चाहिए। टमाटरों की खटाई शरीर में शर्करा की मात्रा को कम करती है।
  3. 19. गर्भावस्था में स्त्रियों को टमाटर का 100 ग्राम रस रोजाना पीना चाहिए, इससे खून निकलने की समस्या दूर होती है।

टमाटर के नुकसान :

टमाटर में कई तरह के पौष्टिक तत्व पायें जाते हैं, जो हमारे शरीर के लिए बहुत ही लाभकारी होते हैं। टमाटर हमारे शरीर के लिए कितना लाभकारी होता है, इसके बारे में आप लोगों ने अक्सर सुना ही होगा। टमाटर का सेवन करने से हम कई तरह की बिमारियों से बच सकते हैं। इसका सेवन हम कैंसर से बचाव, दिल से जुडी हुई कई तरह की समस्याओँ के लिए, रक्त को साफ करने के लिए, शरीर से विषाक्त पदार्थ बहार निकलने के लिए, कोलेस्ट्रोल के स्तर को नियंत्रित करने के लिए और आँखों की रोशनी को सही रखने के लिए इसका सेवन बहुत ही लाभकारी होता है। टमाटर के इतने अधिक फायदे होने के बावजूद भी इसका सेवन हमारे लिए नुकसानदायक सिद्ध हो सकता है । ध्यान रखें तेज खांसी, दस्त और पथरी के रोगी को टमाटर नहीं खाना चाहिए। साथ शरीर में सूजन और मांसपेशियों में दर्द हो तो टमाटर का सेवन ना करें। टमाटर का अधिक सेवन करने से गैस जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

 

इसके सिवा जो टमाटर से हमें जो नुकसान होते हैं वो कुछ इस प्रकार से हैं

टमाटर में अधिक मात्रा में अम्लीय का होना
टमाटर में अधिक मात्रा में अम्लीय होने के कारण इसके अधिक इस्तेमाल से एसिडिटी की समस्या उत्पन्न हो सकती हैं और इससे छाती मैं जलन की शिकायत भी हो सकती है।

 

टमाटर के कारण गैस होना
टमाटर का अधिक सेवन करने से हमें गैस और पेट दर्द का सामना भी करना पड़ सकता है, क्योंकि इसमे अधिक मात्रा में एसिड पाया जाता है। जिसके कारण यह एसिडिटी की वजह बन जाता है।

 

रोगप्रतिरोधक क्षमता पर असर
टमाटर में कैरोटीनॉयड होता है, जो रोगप्रतिरोधक क्षमता  को प्रभावित करता है। जब हम कच्चे टमाटर का अधिक सेवन करते हैं, तो इससे हमारे रोगप्रतिरोधक क्षमता पर बहुत ही गहरा असर पड़ता है।

 

पथरी होने का कारण
टमाटर के बीज का सेवन करने से हमें बहुत ही नुकसान होता है, इसलिए आप जब भी टमाटर के सलाद खाते हैं तो उसमे टमाटर के बीजों पर ध्यान रखना चाहिए क्योकि टमाटर के बीज आसानी से नही पच पाते जिस कारण हमें पथरी होने का डर रहता हैं ।

 

पसीने मैं दुर्गन्ध आना
आप टमाटर का अधिक सेवन करते हो तो आप के शरीर से दुर्गन्ध आने लगती है, क्योंकि टमाटर में तरपिंस नामक तत्व पाया जाता है। यह तत्व पाचन क्रिया के दौरान भी नहीं टूटता इसके कारण यह पसीने की दुर्गन्ध की वजह बन जाता है ।

 

डायरिया का होना
इसमे लाइकोपिन की मात्रा अधिक होने कारण डायरिया, पेट दर्द होने का खतरा बना रहता है ।

 

प्रोस्टेट कैंसर 
इसमें पाया जाने वाला लाइकोपिन प्रोस्टेट ग्लैड पर नकारात्मक प्रभाव करता हैं । जिसके कारण अधिक मात्रा मेंटमाटर का सेवन करने से प्रोस्टेट कैंसर और यूरिन रिलेटेड प्रभाव होने का खतरा रहता है।

 

सिरदर्द
टमाटर में विटामिन की अधिकता होती है, इसमे विटामिन सी पाया जाता है और इसकी मात्रा 17 ग्राम तक होती है। जब हम इसे अधिक मात्रा में खाते है तब इसकी शरीर में मात्रा अधिक हो जाने के कारण हमें सिरदर्द होने लगता है ।

 

एलर्जी
टमाटर में लाइकोपिन होने के कारण यह शरीर में एलर्जी पैदा कर सकता है।

 

आर्थराइटिस
टमाटर में सोडियम की मात्रा अधिक होने के कारण इसका अधिक सेवन आर्थराइटिस की संभावना को बढ़ा सकता है।

 

 

टमाटर का सूप

भारत में टमाटर का सूप बहुत ज्यादा पिया जाता है। सर्दियों के मौसम में इसकी मांग बढ़ जाती है। यह एक ऐसा सूप है जो की आसानी से बना सकता है। यह सूप सस्ती होने के साथ-साथ आपके सेहत को भी बेहतर बना सकती है। जिन लोगों की हड्डियां कमजोर है या जिन्हें ह्र्दय संबंधित रोग है उन्हें टमाटर का सूप पीना चाहिए। अगर आप नियमित रूप से टमाटर सूप पीते हैं तो यह रक्त नलिकाएं को दुरुस्त करता है और खराब कोलेस्ट्रॉल को कम करने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह मधुमेह और कैंसर के रोगियों के लिए भी फायदेमंद है। यहां तक जिन लोगों को अपना वजन कम करना है उन्हें भी टमाटर का सूप लगातार पीते रहना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *